9.1 C
New Delhi
Saturday, January 28, 2023

केंद्र के नोटबंदी के फैसले को 4:1 के बहुमत के साथ HC ने सही ठहराया

उच्चतम न्यायालय की संविधान पीठ ने केंद्र सरकार के 2016 में 500 और 1000 रुपये की श्रृंखला वाले नोटों को बंद करने के फैसले को सोमवार को 4:1 के बहुमत के साथ सही ठहराया। पीठ ने बहुमत से लिए गए फैसले में कहा कि नोटबंदी की निर्णय प्रक्रिया दोषपूर्ण नहीं थी ।

न्यायमूर्ति एस. ए. नज़ीर की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने कहा कि आर्थिक मामले में संयम बरतने की जरूरत होती है और अदालत सरकार के फैसले की न्यायिक समीक्षा नहीं कर सकती।.

नोटबंदी को लेकर जस्टिस बीवी नागरत्ना की राय अलग दिखाई दी. उन्होंने कहा, “केंद्र सरकार के इशारे पर नोटों की सभी सीरीज का विमुद्रीकरण बैंक के विमुद्रीकरण की तुलना में कहीं अधिक गंभीर मुद्दा है. इसलिए, इसे पहले कार्यकारी अधिसूचना के माध्यम से और फिर कानून के माध्यम से किया जाना चाहिए.” उन्होंने आगे कहा कि धारा 26(2) के अनुसार, नोटबंदी का प्रस्ताव आरबीआई के केंद्रीय बोर्ड से ही आ सकता है।

न्यायाधीश नागरत्ना ने कहा कि आरबीआई ने स्वतंत्र दिमाग का इस्तेमाल नहीं किया और केवल नोटबंदी के लिए केंद्र की इच्छा को मंजूरी दी। उन्होंने कहा, “आरबीआई ने जो रिकॉर्ड पेश किए, उन्हें देखने पर पता चलता है कि केंद्र की इच्छा के कारण पूरी कवायद महज 24 घंटों में की गई थी”

Related Articles

नेपाल के उप प्रधानमंत्री रबी लामिछाने की संसद की सदस्यता को रद्द

नेपाल के सर्वोच्च न्यायालय ने उप प्रधानमंत्री रबी लामिछाने की संसद की सदस्यता को इस आधार पर रद्द कर दिया है कि चुनाव लड़ने...

बीबीसी डॉक्युमंट्री पर नहीं थम रहा विवाद डीयू के नॉर्थ कैंपस में जमा हुए छात्रों को हिरासत में लिया गया

बीबीसी के 2002 के गुजरात दंगों पर बनी डॉक्युमंट्री के प्रदर्शन के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय के नॉर्थ कैंपस में शुक्रवार को जमा हुए अनेक...

वैष्‍णो देवी मंदिर परिसर में 700 से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे

जम्मू-कश्मीर में वैष्‍णो देवी मंदिर परिसर के आसपास सात सौ से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे। मंदिर प्रबंधन बोर्ड ने सभी तीर्थयात्रियों पर नजर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,866FansLike
476FollowersFollow
2,679SubscribersSubscribe

Latest Articles