18.1 C
New Delhi
Saturday, January 28, 2023

गर्भपात के मामलों में मां का निर्णय ही मान्य होना चाहिए : दिल्‍ली उच्‍च न्‍यायालय

दिल्‍ली उच्‍च न्‍यायालय ने व्‍यवस्‍था दी है कि असामान्‍य भ्रूण वाले मामलों में गर्भावस्‍था के बारे में अंतिम फैसला मां पर ही छोड़ना सही विकल्‍प है। न्‍यायालय ने इस बात पर बल दिया कि ऐसे मामलों में मेडिकल बोर्ड को गुणवत्‍तापूर्ण रिपोर्ट देनी चाहिए। उच्‍च न्‍यायालय ने 26 वर्ष की विवाहित महिला की याचिका पर यह व्‍यवस्‍था दी। इस महिला ने मस्तिष्‍क में गड़बड़ से पीडि़त 33 सप्‍ताह के भ्रूण को समाप्‍त करने के लिए याचिका दायर की है।

उच्‍च न्‍यायालय ने कहा कि मेडिकल बोर्ड को महिला की शारीरिक और मानसिक दशा का आकलन करने के लिए अनुकूल ढंग से बातचीत करनी चाहिए। यह अधिकार महिला को विकल्‍प उपलब्‍ध कराता है कि वह अपने पेट में पल रहे भ्रूण को जन्‍म देना चाहती है या उसे गिराना चा‍हती है।

कोर्ट ने यह भी कहा कि ऐसे मामलों में गुणात्मक रिपोर्ट के साथ तेजी से कार्यवाही करना भी महत्वपूर्ण है। ऐसे कुछ मानक कारक होने चाहिए जिन पर बोर्ड द्वारा राय दी जानी चाहिए। कोर्ट ने इसके साथ ही महिला को लोक नायक जयप्रकाश में गर्भपात कराने की अनुमति दे दी।

Related Articles

नेपाल के उप प्रधानमंत्री रबी लामिछाने की संसद की सदस्यता को रद्द

नेपाल के सर्वोच्च न्यायालय ने उप प्रधानमंत्री रबी लामिछाने की संसद की सदस्यता को इस आधार पर रद्द कर दिया है कि चुनाव लड़ने...

बीबीसी डॉक्युमंट्री पर नहीं थम रहा विवाद डीयू के नॉर्थ कैंपस में जमा हुए छात्रों को हिरासत में लिया गया

बीबीसी के 2002 के गुजरात दंगों पर बनी डॉक्युमंट्री के प्रदर्शन के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय के नॉर्थ कैंपस में शुक्रवार को जमा हुए अनेक...

वैष्‍णो देवी मंदिर परिसर में 700 से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे

जम्मू-कश्मीर में वैष्‍णो देवी मंदिर परिसर के आसपास सात सौ से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे। मंदिर प्रबंधन बोर्ड ने सभी तीर्थयात्रियों पर नजर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,866FansLike
476FollowersFollow
2,679SubscribersSubscribe

Latest Articles