9.1 C
New Delhi
Tuesday, January 18, 2022

ओमिक्रॉन वैरिएंट को हल्‍का नहीं समझा जाना चाहिए: WHO

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने कहा है कि कोविड-19 का अधिक संक्रामक ओमिक्रॉन वैरिएंट डेल्टा की तुलना में कम घातक प्रतीत हो रहा है। लेकिन संगठन ने चेतावनी दी कि इसे हल्‍का नहीं समझा जाना चाहिए।  इस वैरिएंट से संक्रमित लोगों को अस्‍पताल में दाखिल कराने की जरूरत कम पडी़।

उन्‍होंने पूरी दुनिया में टीकों की समान उपलब्‍धता सुनिश्चित करने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि टीकाकरण की मौजूदा दर से दुनिया के 109 देश जुलाई तक 70 प्रतिशत नागरिकों के पूर्ण टीकाकरण के विश्व स्वास्थ्य संगठन का लक्ष्‍य पूरा नहीं कर पायेंगे।

उन्‍होंने कहा कि जब तक अरबों लोग टीकाकरण से वंचित और असुरक्षित रहेंगे केवल कुछ देशों में बूस्‍टर के बाद बूस्‍टर डोज से महामारी का अंत नहीं होगा।

Related Articles

बांग्‍लादेश ने कोविड टीके की बूस्‍टर डोज लगाने की आयु 60 से घटा कर 50 वर्ष की

बांग्‍लादेश सरकार ने कोविड-19 टीके की बूस्‍टर डोज लगाए जाने की न्‍यूनतम आयु 60 से घटाकर 50 वर्ष कर दी है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री जाहिद...

कांग्रेस नेता लव कुमार गोल्डी , कैप्टन की पंजाब लोक कांग्रेस में शामिल

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और गढ़शंकर से दो बार के विधायक लव कुमार गोल्डी आज अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ कैप्टन अमरिंदर सिंह के...

अबू धाबी हवाई अड्डे पर ड्रोन हमले में दो भारतीयों सहित तीन लोग मारे गए

अंतर्राष्‍ट्रीय हवाई अड्डे के नए परिसर के पास आग लगने की भी घटना हुई है जिसमें तीन लोग मारे गए हैं और छह अन्‍य...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,866FansLike
476FollowersFollow
2,679SubscribersSubscribe

Latest Articles