26.1 C
New Delhi
Tuesday, September 27, 2022

नेपाल के प्रधानमंत्री ने देश की संसद को भंग करने के अपने फैसले का सुप्रीम कोर्ट में बचाव किया

नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली ने देश की संसद को भंग करने के अपने फैसले का सुप्रीम कोर्ट में  बचाव किया है। उन्‍होंने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि न्‍यायपालिका प्रधानमंत्री की नियुक्ति करने के लिए विधायिका और कार्यपालिका के अधिकारों का इस्‍तेमाल नहीं कर सकती। संसद भंग किये जाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 9 जून को प्रधानमंत्री कार्यालय को कारण बताओ नोटिस जारी कर 15 दिन के अंदर जवाब देने को कहा था। श्री ओली का जवाब नेपाल के अटॉर्नी जनरल की ओर से आज भेजा गया।

प्रधानमंत्री ओली की सिफारिश पर राष्‍ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने 22 मई को पांच महीनों के भीतर दूसरी बार संसद को भंग कर 12 और 19 नवम्‍बर को आम चुनाव कराने जाने की घोषणा की थी। ओली सरकार के अल्‍पमत में आ जाने और सदन में विश्‍वास मत खो देने के बाद संसद को भंग करने का फैसला लिया गया था।

Related Articles

जांच एजेंसियों ने देश के कई राज्‍यों में PFI पर छापेमारी की

दिल्‍ली पुलिस ने पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया से सम्‍बद्ध मामले की जांच के सिलसिले में राजधानी दिल्‍ली में कई स्‍थानों पर छापे मारे हैं।...

बांग्लादेश में हुई नाव दुर्घटना में मृतकों की संख्या 50 पहुंची

बंगलादेश में पांचागढ़ की कारातोया नदी में हुई नाव दुर्घटना में मृतकों की संख्या 50 हो गई है। बंगलादेश की सरकारी समाचार एजेंसी बीएसएस...

अमानतुल्‍लाह खान को 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में भेजा गया

दिल्‍ली की एक अदालत ने दिल्‍ली वक्‍फ बोर्ड में कथित अनियमितता के मामले में आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्‍ला खान को 14 दिन...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,866FansLike
476FollowersFollow
2,679SubscribersSubscribe

Latest Articles